शादी शगुन योजना अल्पसंख्यक लडकियों को 51 हजार रूपये वित्तीय सहायता

शादी शगुन योजना अल्पसंख्यक, Shadi Shagun Yojana, प्रधानमंत्री शादी शगुन योजना, शादी शगुन योजना अल्पसंख्यक लडकियों को 51 हजार रूपये वित्तीय सहायता – भारत सरकार ने देश में पढ़ रही सभी अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियों की उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने हेतु शुरू की गई है भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई इस सरकारी योजना का नाम शादी शगुन योजना है इस योजना के अंतर्गत, देश की सभी अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियों को उनके विवाह से पहले उन्हें वित्तीय सहायता हेतु 51 हजार रूपये की धनराशी दी जाएगी केंद्र सरकार द्वारा इन पैसो को उन सभी लडकियों की स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के लिए दिया जाएगा 

शादी शगुन योजना अल्पसंख्यक

Shadi Shagun Yojana

भारत सरकार द्वारा इस सरकारी योजना को देश की सभी मुस्लिम वर्ग की लडकियों की उच्च शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए शुरू किया गया है क्योकि देश में सबसे अधिक की संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय रहता है इतना ही नहीं देश में अल्पसंख्यक समुदाय की लडकियों की शिक्षा की स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं है इसी स्थिति को सुधारने हेतु इस गवर्नमेंट स्कीम को शुरू किया गया है इस योजना को अधिकारिक रूप से भारत द्वारा 8 अक्टूबर 2017 को शुरू की गई थी मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना का लक्ष्य राज्य की सभी मुस्लिम वर्ग की लडकियों को अच्छी शिक्षा प्राप्त करने हेतु जागरूक करना है ताकि सभी लड़किया अच्छी शिक्षा प्राप्त करके जीवन में कामियाब हो सके इस सरकारी योजना का लाभ केवल उन्ही मुस्लिम लडकियों को मिलेगा जिन्होंने स्कूली स्तर पर बेगम हजरत महल राष्ट्रीय छात्रवृति हासिल की है।


पात्रता 
  • इस योजना के लिए केवल वह लड़किया ही पात्र होंगी जो स्कूली स्तर पर बेगम हजरत महल राष्ट्रीय छात्रवृत्ति हासिल की कर चुकी है
  • इसके साथ ही आवेदक का मान्यता प्राप्त कॉलेज से स्नातक पास होना अनिवार्य है
  • साथ ही मुस्लिम लड़की का भारत का नागरिक होना अनिवार्य है।
  • परिवार की सालाना आय 2 लाख रूपये से कम होनी चाहिए।

जाने कहाँ से प्राप्त करे जानकारी –

इस योजना से जुडी सभी जानकारी आप केंद्र सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय से हासिल की जा सकती है।

भारत में लड़कियों के लिए 8 सबसे बड़ी सरकारी योजनाएं

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *